Home आमुख कथा जिसे अपना समझा वो गैरों से भी गैर निकला